आज भी…

यादों की जीर्ण दीवारों पर
आज भी तस्वीर तेरी लगी है
कुछ चंद लम्हों को संजोती
आज भी निगाहों में नमी हैं

रात की बेसब्र खामोशियों में
आज भी सदाएं तेरी गूंजती हैं
कुछ चंद लम्हों को संजोती
आज भी निगाहों में नमी हैं

मौसम के रंगीन चेहरों पर
आज भी अक्स तेरी सजी है
कुछ चंद लम्हों को संजोती
आज भी निगाहों में नमी हैं

वक़्त की मासूम हलचल में
आज भी हंसी तेरी छिपी है
कुछ चंद लम्हों को संजोती
आज भी निगाहों में नमी हैं

~~~~~

आशा सेठ

Advertisements

27 thoughts on “आज भी…

Add yours

  1. Good use of Refrain.

    I got few lines on same theme

    Kuchh kam nhi mere pas par kuchh kami hai,
    Bunda-bandi ke bad barsat aaj palkon pe thami hai,
    Kal unke baton ka badal tha kal mere dil mein toofaan tha
    Aaj sanata sanson se takrati hai aaj nigaho.N mein nami hai

    Like

  2. जब भी तेरी ख़लती कमी
    अनायास आँखों में आती नमी..
    You have beautifully weaved the words..

    Like

“I love writing. I love the swirl and swing of words as they tangle with human emotions.” ― James A. Michener

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: