ख्वाहिश बस इतनी सी थी…

रात की खामोशियों
को चीरती हुई
एक आवाज़ गूंजी
जानी पहचानी सी
उस शोर की तलाश में
कदम मेरे
कभी अंधेरों का पीछे करते
कभी तेरी यादों का

~~~

सन्नाटों से लैस
एक चौराहे पर फिर
दूर खड़ी तेरी परछाई
मुझे देख मुस्कुरायी
हज़ारों सवाल लिए
मेरी नज़रें
तेरा मन टटोलती रहीं
सेहमी सी तेरी आँखों में
अपना अक्स तलाशती रहीं

~~~

क्या सिलसिला था वो
बिखरती सिमटती
बेसब्रियों का
नज़दीकियों पर
फासलों का पहरा
अल्फ़ाज़ पर जज़्बात के लगाम
और होठों पे तरसता
बरसों का अनकहा पैगाम
~~~
तेरी तस्वीर तराशूं
या शब्दों में करूं तुझे कैद
यही सोचते सोचते
काली रात हुई सफ़ेद
खुद से पूछता रहा
वक़्त को कैसे मात दूँ
ख्वाहिश बस इतनी सी थी
तुझे किसी तरह रोक लूँ

~~~~~

आशा सेठ

21 thoughts on “ख्वाहिश बस इतनी सी थी…

Add yours

  1. Very beautiful Urdu ghazal. Please learn that alfaz aur jazbat are plural of lafz and jazba respectively. Alfazon aur jazbaton would be too much plural as it is. Moeover, hoton pe tarasta barson ka unkaha paigham. (Ka and ki make difference). Paigham is treated as muzakkar ( purush ling) in Urdu. Thanks for making my momemts with the beauty of your thoughts. Sorry, but I never want to embarace.

    Liked by 2 people

“I love writing. I love the swirl and swing of words as they tangle with human emotions.” ― James A. Michener

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: