वो पापा ही थे …

बारिश की उन रातों में डूबे हुए नम यादों में घूँट घूँट उन घंटों को पीते थे हाँ, वो पापा ही थे सुबह की न होश न खबर सूरज की किरणों से परहेज कर खली बोतलों में अधूरे सपनों को समेटते थे हाँ, वो पापा ही थे ख्वाहिशों की शैय्या से दूर बुने अपने बेशर्त... Continue Reading →

The Ocean called Love

with a reckless hope that had left me ashore the last time I was at the banks of the ocean called love I could hardly believe this time how those beautiful waves accepted me as if it had never denied me my share ~~~~~ Asha Seth

Let’s start again?

maybe I’ll forget  all that you said maybe you’ll forget  all that I did maybe I was wrong  and you were right maybe you were the one who always ended our fights maybe I never wanted to let you go maybe you never wanted to have me back and maybe, amidst all these maybes we... Continue Reading →

Enigma

I write words that mean nothing. What I feel I sure can’t find the right words to write. When the writing is done and I’m wasted, the words seem foreign. I wonder why they seem such an enigma, why do they feel surreal? Like an amateur's parody. Like they don't belong to me. The anxious... Continue Reading →

Would it matter?

would it matter if the rising sun was purple the sinking moon amber if what we cried were not salted tears but only plain water would it matter if meadows were black and storms mellow if elephants chirped and squirrels bellowed if lions were striped and zebras spotted if we walked backward to reach ahead would... Continue Reading →

जब निकले खुदको ढूंढने…

हर पल तेरी ही यादों में खोये जाने कब हम खुदसे ही बेगाने हुए शब्द तो मेरे थे पर ज़िक्र तेरा शहर तो मेरा था पर बसेरा तेरा जब निकले खुदको ढूंढने हर गली में मुलाकात हुई तुझसे सोचा तुझसे ही खुद का पता पूछ लूँ पर तेरी गलियों में इस कदर गुम हुए मानो... Continue Reading →

ख्वाहिश बस इतनी सी थी…

रात की खामोशियों को चीरती हुई एक आवाज़ गूंजी जानी पहचानी सी उस शोर की तलाश में कदम मेरे कभी अंधेरों का पीछे करते कभी तेरी यादों का ~~~ सन्नाटों से लैस एक चौराहे पर फिर दूर खड़ी तेरी परछाई मुझे देख मुस्कुरायी हज़ारों सवाल लिए मेरी नज़रें तेरा मन टटोलती रहीं सेहमी सी तेरी... Continue Reading →

Ramè

at every corner of every street there are leftovers of sweet memories I reach out scoop some in my palms they slip from between my fingers stare at me long a quick walk down the lane left behind rolling happily in the sands of time soon winds of past blow them all away I run... Continue Reading →

उस रात की बात …

क्या बताएं तुम्हें उस रात की बात चौखट पे बैठे अतीत की चादर में लिपटे किस कदर हम ख्वाहिशों को तरसे ~~~ क्या बताएं तुम्हें उस रात की बात होठों को सीए खामोशियों की बाहों में सिमटे किस कदर हम अल्फ़ाज़ को तरसे ~~~ क्या बताएं तुम्हे उस रात की बात खुद से गुफ्तगू करते... Continue Reading →

Not all’s lost…

the day rolls on without so much as sparing a thought coaxing me on forcing sighs suffocated, precipitated from battles hard fought yet lost the minutes curious as a kid refuse to take a no drag me out of my agitated reveries take my hand pull me out the door the burning sun melts down... Continue Reading →

आज भी…

यादों की जीर्ण दीवारों पर आज भी तस्वीर तेरी लगी है कुछ चंद लम्हों को संजोती आज भी निगाहों में नमी हैं रात की बेसब्र खामोशियों में आज भी सदाएं तेरी गूंजती हैं कुछ चंद लम्हों को संजोती आज भी निगाहों में नमी हैं मौसम के रंगीन चेहरों पर आज भी अक्स तेरी सजी है कुछ... Continue Reading →

एक शाम वक़्त के नाम…

कई सुबह कई शामें गुजरीं वक़्त के कदम कभी न रुके एक पल में सदियाँ बदल गयीं कई सदियाँ एक पल में सिमटे ~~~ इस पहेली में गुम यह सोचा ज़रा फुर्सत से बैठें वक़्त को मुट्ठी में थाम उससे दो बातें करें हमने कहा: "आओ, ज़रा बैठो कुछ किस्से हमें भी सुनाओ अनकहे अनसुने... Continue Reading →

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: