घर

दीवारों की दरारों में छुपी ज़र्द यादें पास जाकर देखा कभी मेरा बचपन सतह पर तैरता कभी दादी का बुढ़ापा कनखियों से झाँकता खिड़कियों के पार से सन्नाटे ताकते कभी होली में रंगे माँ-बाबा की झलक तो कभी बिदाई में सजी अन्नू का अक्स खाली कमरों में गूंजते हँसी के पटाखे कभी पापा के ठहाके... Continue Reading →

Advertisements

बसेरा…

चुपके से दबे पाओं आकर मेरे घर में तुम्हारी बातें कुछ ऐसे बसेरा कर गयीं की आज मुझसे ज़्यादा कहीं तुम हो झलकती उन आइनों से जिनमें मैं कभी खुदको तलाशता था की आज मुझसे ज़्यादा कहीं तुम हो छलकती इन पलकों से जिनसे मैं कभी खुदको तराशता था ~~~~~ आशा सेठ

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: