मत कहो…

मत कहो यह किस्मत की बात है... जहां बारातों में हज़ारों के निवाले कूड़े दान को खिलाये जा रहे हैं पर एक पिता अपने परिवार को दो वक़्त की रोटी तक को खून बहा रहा है मत कहो यह किस्मत की बात है... की बंद घरों में दीवारों पे लटकी तसवीरें घंटो ऐसी का हवा... Continue Reading →

Advertisements

कभी जो…

कभी जो नज़रें मिलीं पलकें झुका न लेना कभी जो मेरी यादों ने दस्तक दी उन्हें ठुकरा न देना उम्मीद लिए देहलीज़ पर खड़ा हूँ इस इंतज़ार में कब मेरी गली से गुज़रोगे कभी जो मेरी आवाज़ सुनो अजनबी कहकर मेरा शहर छोड़ न देना ~~~~~ आशा सेठ

घर

दीवारों की दरारों में छुपी ज़र्द यादें पास जाकर देखा कभी मेरा बचपन सतह पर तैरता कभी दादी का बुढ़ापा कनखियों से झाँकता खिड़कियों के पार से सन्नाटे ताकते कभी होली में रंगे माँ-बाबा की झलक तो कभी बिदाई में सजी अन्नू का अक्स खाली कमरों में गूंजते हँसी के पटाखे कभी पापा के ठहाके... Continue Reading →

Kuch Vo Pal: Book Review by Asha Seth

Hindi poets such as Gulzar, Kabir, Harivansh Rai Bachchan, Javed Akhtar, etc. have always influenced my thoughts in poetry. Their works have always inspired me. Rarely have I come across debut works in Hindi poetry from contemporary writers. So when I came across 'Kuch Vo Pal' on Blogadda, it intrigued me. Naturally, I wanted to... Continue Reading →

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: